कारवां गुज़र गया – गोपालदास ‘नीरज’

This is undoubtedly my favourite Hindi poem. It has a very sad tone but I still love it. The reason being that it evokes many memories of childhood. My father use to sing this to us and I would fall asleep listening to it. Neeraj ji is a living legend and it is a travesty in this country that artists do not get the due respect .

स्वप्न झरे फूल से,
मीत चुभे शूल से,
लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से,
और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे
कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे!

नींद भी खुली न थी कि हाय धूप ढल गई,
पाँव जब तलक उठे कि ज़िन्दगी फिसल गई,
पात-पात झर गये कि शाख़-शाख़ जल गई,
चाह तो निकल सकी न, पर उमर निकल गई,
गीत अश्क़ बन गए,
छंद हो दफ़न गए,
साथ के सभी दिऐ धुआँ-धुआँ पहन गये,
और हम झुके-झुके,
मोड़ पर रुके-रुके
उम्र के चढ़ाव का उतार देखते रहे
कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे।

क्या शबाब था कि फूल-फूल प्यार कर उठा,
क्या सुरूप था कि देख आइना मचल उठा
इस तरफ जमीन और आसमां उधर उठा,
थाम कर जिगर उठा कि जो मिला नज़र उठा,
एक दिन मगर यहाँ,
ऐसी कुछ हवा चली,
लुट गयी कली-कली कि घुट गयी गली-गली,
और हम लुटे-लुटे,
वक्त से पिटे-पिटे,
साँस की शराब का खुमार देखते रहे
कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे।

हाथ थे मिले कि जुल्फ चाँद की सँवार दूँ,
होंठ थे खुले कि हर बहार को पुकार दूँ,
दर्द था दिया गया कि हर दुखी को प्यार दूँ,
और साँस यूँ कि स्वर्ग भूमी पर उतार दूँ,
हो सका न कुछ मगर,
शाम बन गई सहर,
वह उठी लहर कि दह गये किले बिखर-बिखर,
और हम डरे-डरे,
नीर नयन में भरे,
ओढ़कर कफ़न, पड़े मज़ार देखते रहे
कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे!

माँग भर चली कि एक, जब नई-नई किरन,
ढोलकें धुमुक उठीं, ठुमक उठे चरण-चरण,
शोर मच गया कि लो चली दुल्हन, चली दुल्हन,
गाँव सब उमड़ पड़ा, बहक उठे नयन-नयन,
पर तभी ज़हर भरी,
ग़ाज एक वह गिरी,
पुंछ गया सिंदूर तार-तार हुई चूनरी,
और हम अजान से,
दूर के मकान से,
पालकी लिये हुए कहार देखते रहे।
कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे।

Advertisements

something like shayari

उन्होंने प्यार को मेरे अब आजमाना छोड़ दिया
भरोसा हो गया शायद कि अब ख्वाबों में आना छोड़ दिया
——————-
कैसा करिश्मा है मेरे महबूब का
आग लगाता भी वही बुझाता भी वही
मिलता कैसे आराम उनके चाहने पर भी

कि दर्द भी वही दवा भी वही
कैसे भटक न जाऊं मैं यहाँ पर
कि मंजिल भी वही रास्ता भी वही
———–
कोई पूछे तो कैसे बताएं की हम क्या काम करते हैं
तुम्हारा नाम लेते हैं तुम ही को याद करते हैं
I have just beginning to write posts. So, it would be blasphemous if I try my amateurish hands on poetry. I shared poetry like work earlier also (here and here)  which I jotted down when life dictated them to me. Hope you found them worthy of reading.